Live : डेरा प्रमुख राम रहीम को 20 साल की सजा, कोर्ट में फफक-फफक कर रोता रहा बलात्कारी बाबा

0
386
राम रहीम को कुल 20 साल की सजा
राम रहीम को कुल 20 साल की सजा

रोहतक : डेरा सिरसा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को 20 साल की सजा सुनाई गई हैं। कोर्ट ने दोनो साध्वियों से रेप के मामले में अलग-अलग दस-दस साल की सजा बलात्कारी राम रहीम को सुनाई है। उन्हें आश्रम में रहने वाली साध्वियों के यौन शोषण का दोषी करार दिया गया था। सीबीआई स्पेशल कोर्ट के जज जगदीप सिंह को सोमवार विशेष विमान में रोहतक की सुनारिया जेल लाया गया। इस दौरान उनकी कड़ी सुरक्षा दी गई थी। जेल में ही अदालत लगाई गई और सजा सुनाई गई। दोपहर 2.30 बजे सजा पर सुनवाई शुरू होने के बाद दोनों पक्षों के वकीलां ने अपनी-अपनी दलीलें अदालत के सामने रखीं।

Also Read : जानिए इंटरनेट से पैसे कमाने के तरीके, घर बैठे कमाएं हर महीने लाखों रूपए

सीबीआई के वकील बलात्कारी बाबा को उम्रकैद की सजा देने की मांग की। सीबीआई वकील ने कहा कि यह रेयरेस्‍ट केस है. 45 और महिलाओं के साथ ही ऐसा हुआ लेकिन वे चुप रहीं। और डर के कारण केस बीच में छोड़ गई, जबकि ये दो पीड़िता ने अब तक इस केस में संघर्ष किया है। वहीं राम रहीम के वकील ने सामाजिक कार्यों का हवाला देते हुए कहा कि बाबा रक्तदान, स्वच्छता, गरीबां की सेवा सहित अनेक सामाजिक कार्यो में अपनी भागीदारी निभाते आएं। डेरा की ओर से समय-समय पर ऐसे सामाजिक सरोकार के कार्य करवाएं जाते रहे है। इसलिए इन्हें ध्यान में रखते हुए उन्हें कम से कम सजा दी जाएं। राम-रहीम के वकील ने साथ ही उम्र और सेहत का भी हवाला दिया।

Also Read : कम पूंजी से शुरू करें ये 10 बिज़नेस, पाएं हर महीने लाखों रूपए कमाने का मौका

बता दें कि इधर जब रोहतक की अस्थायी कोर्ट में बाबा रामदेव को सजा पर सुनवाई चल रही थी, वहीं दूसरी ओर डेरा समर्थकों ने सिरसा में दो बसों को आग के हवाले कर दिया। कफ्यू के दौरान भी डेरा समर्थकों द्वारा हिंसा को अंजाम देने की आंशका के चलते सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे।

कोर्ट में फफक-फफक कर रो पड़ा बलात्कारी राम-रहीम

रोहतक की अस्थायी सीबीआई कोर्ट में जब बलात्कार के मामले में दोषी पाएं गए राम-रहीम की सजा पर सुनवाई चल रही थी तो वह फफक-फफक कर रो पड़ा। उसने जज के सामने हाथ जोड़कर कहा कि ‘जज साहब मैं एक बीमार आदमी हूं, मुझे बैकपेन है, लिहाजा मुझे कम सजा दी जाएं। राम-रहीम ने जज से माफी की गुहार भी लगाई, लेकिन जज ने कहा कि उसके गुनाह इतने बड़े है कि उसे माफ नहीं किया जा सकता। जज ने कहा कि आश्रम में रहने वाली साध्वी जिसे अपना पिता समझती रही, वहीं उनकी अस्मत से खेलता रहा, लिहाजा यह विश्वास तोड़ने का भी मामला है।

Also Read : एम्प्लॉइज को प्रेरित करने के लिए वर्कप्लेस पर लगाएं ये प्रेरणादायी कथन

इधर, 25 अगस्त को अदालत के फैसले के बाद हुई हिंसा आज फिर से न भड़के इसको देखते हुए पंजाब-हरियाणा समेत 6 राज्यों में हाईअलर्ट है। हरियाणा के सभी स्कूलों में छुट्टी है। सिरसा, पंचकूला और रोहतक में इंटरनेट सेवा 29 अगस्त सुबह 11ः30 बजे तक स्थगित हैं। रोहतक में किसी भी उपद्रवी को देखते ही गोली मारने के आदेश भी जारी किए गए हैं।

Also Read :

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here