काम के साथ खुद के लिए भी निकालें कुछ समय

0
170

एक बार एक लकड़हारा नौकरी के लिए एक सेठ के पास गया। उसे वहां नौकरी मिल गई। वहां के माहौल और अच्छे वेतन को देखते हुए लकड़हारे ने खुद से वादा किया कि वह पूरी निष्ठा और लगन से काम करेगा। नौकरी के पहले दिन सेठ ने उसे उसका काम समझा दिया। उस दिन शाम को लकड़हारा 18 पेड़ लेकरसेठ के पास पहुंचा। उसका काम देखकर सेठ ने उसे शाबादी दी।

दूसरे दिन सिर्फ 16 पेड़ ही काटकर ला पाया। अगले दिन वह सिर्फ 13 पेड़ ला सका। उसे हैरानी हुई कि इतनी मेहनत करने के बाद भी उसकी प्रतिभा कम कैसे हो गई। वह सेठ के पास पहुंचा और अपनी अपनी कुल्हाड़ी को कब तेज किया था। इस पर लकड़हारा बोला कि इसके लिए उसके पास समय नहीं था क्योंकि वह पेड़ काटने में व्यस्त था। सेठ ने कहा कि प्रभावी ढंग से काम करने के लिए आराम करना और खुद को समय देना भी बहुत जरूरी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here