शांति और धैर्य से मिलेगी सफलता

0
181

एक बार एक सेठ की कीमती घड़ी घर में ही कहीं खो गई। उसने सारे घर में ढूंढ़ा, लेकिन उसे घड़ी कहीं नहीं मिली। आखिरकार उसने अपने बच्चों को बुलाया और कहा कि जो उसकी घड़ी को ढूंढ़ेगा, उसे वह इनाम देगा। सभी बच्चे जोर-शोर से घड़ी को ढूंढ़ने में लग गए, लेकिन उन्हें भी निराशा ही हाथ लगी। तभी घर के एक छोटे बच्चे ने सेठजी से कहा कि वह उनकी घड़ी ढूंढ़ सकता हैं, लेकिन एक शर्त हैं कि वह यह काम अकेला करेगा। सेठजी ने उसकी शर्त मानली।

Also Read : काम के साथ खुद के लिए भी निकालें कुछ समय

वह छोटा बच्चा एक-एक घर के सभी कमरों में गया। घर के सभी सदस्य उसे शांति और हैरानी से देख रहे थे। कुछ देर बाद जब वह बच्चा सेठजी के बेडरूम से निकला, तो उसके हाथ में सेठजी की वह कीमती घड़ी थी। सेठजी घड़ी देखकर खुश हो गए और उन्होंने उस बच्चे से पूछा कि तुमने यह घड़ी कैसे ढूंढ़ निकाली। इस पर लड़के ने कहा कि मैंने कुछ नहीं किया, मैं बस चुपचाप आपके बेडरूम में बैठ गया और घड़ी की आवाज पर ध्यान केंद्रित करने लगा। कमरे में शांति के कारण मुझे घड़ी की टिकटिक सुनाई दी और मैंने आवाज की दिशा में उसे ढूंढ़ा। घड़ी अलमारी के पीछे गिरी हुई थी।

मंत्र: हमें अपनी जिंदगी में कुछ देर शांति और धैर्य से बैठना चाहिए ताकि हम खुद से बात कर सकें और हमें समस्या के समाधान की राह सूझ सकें।

Also Read :

You Tube के गानों के इस तरह कन्वर्ट करें MP3 में

सिर्फ 13 मिनट में बनिए सेल्फी एक्सपर्ट, अपनाइए ये प्रोसेस

आपके स्मार्टफोन की बैटरी को जल्दी खत्म करते हैं ये ऐप्स

मोक्ष देती है आमलकी एकादशी

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here