नीरव मोदी के वकील का खुलासा, पीएनबी धोखाधड़ी में नीरव का नहीं, इनका था हाथ

0
526
नीरव मोदी के वकील का खुलासा, पीएनबी धोखाधड़ी में नीरव का नहीं, इनका था हाथ
Nirav-Modi Photo_tkbsen.in

नई दिल्ली : पीएनबी में हुई देश की सबसे बड़ी धोखाधडी के प्रमुख आरोपी नीरव मोदी को पाक साफ बताया गया है। मंगलवार को नीरव मोदी के वकील ने पीएनबी द्वारा उन पर लगाए गए धोखाधड़ी के आरोपों से इनकार किया है।

मंगलवार को एक न्यूज़ एजेंसी को दिए गए इन्टरव्यू में मोदी के वकील विजय अग्रवाल ने कहा कि पीएनबी द्वारा लगाए गए आरोप में कुछ भी सच्चाई नहीं है। उन्होंने बताया कि बैंक की ओर की गई शिकायत में मोदी से जुड़ी कंपनियों व उनके रिश्तेद्वारों की ओर से करीब 1.8 अरब डॉलर का क्रेडिट 2011 और 2017 दो बैंक अधिकारियों की ओर से फर्जी गारंटीज के साथ किया गया।

अग्रवाल ने यह बताने से साफ इनकार कर दिया कि इस समय नीरव मोदी कहां है। उन्होंने बताया कि मोदी ने जनवरी से पहले ही भारत छोड़ दिया था। बता दें कि पीएनबी में हुए 11 हजार 400 करोड़ के घोटाले मामले में नीरव मोदी मुख्य आरोपी है। सीबीआई को नीरव मोदी की तलाश है। मोदी की तलाश में देश के कोने-कोने में छापे मारे गए है।

यह भी पढ़ें : पंजाब नेशनल बैंक में साढ़े 11 हजार करोड़ की धोखाधड़ी, जांच जारी

अग्रवाल ने कहा कि कुछ भी फर्जी तरीके से नहीं हुआ है। बैंक के साथ मोदी ने जो व्यवहार किया है। उसके सभी दस्तावेज उनके पास है। मोदी की फर्मों के साथ हुए सौदों पर बैंक ने नियमित रूप से अपना शुल्क लिया है। जब उनसे आगे की रणनीति के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि अभी कोई रणनीति नहीं है। जब चार्जशीट दाखिल होगी, तब रणनीति बनाई जाएगी।

मोदी ने वकील ने कहा कि पीएनबी की ओर से पुलिस में दी गई शिकायत में बताया गया है कि बैंक की मुंबई शाखा के दो अधिकारी मोदी और उसके चाचा मेहुल की गीताजंलि जेम्स से जुड़ी कंपनियों को कर्ज दे रहे थे। उन्होंने कहा कि बैंक के अधिकारी स्वयं को बचा रहे हैं और इसलिए इस कहानी का ताना-बाना बुना गया है।

जब उनसे पूछा गया कि वे देश छोड़कर क्यों भागे। तो उन्होंने इस पर कोई टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। उन्होंने बताया कि गीतांजलि स्टॉक एक्सचेंज फाइलिंग में कथित धोखाधड़ी में नीरव मोदी शामिल नहीं है।

यह भी पढ़ें : दुनियाभर में मोदी के जादू का जलवा, ट्रंप को पछा़डकर शीर्ष तीन नेताओं में बनाई जगह

इधर पीएनबी मुंबई शाखा के पांच बैंक अधिकारियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। धोखाधड़ी मामले के चलते बाजार सुस्त रहा। पीएनबी के शेयर पांचवे दिन मंगलवार को भी गिरे।

बता दें कि पीएनबी में धोखाधड़ी उजागर होने के बाद शेयर्स का गिरना जारी है। अभी तक पीएनबी का एक तिहाई तक शेयर गिर गए है। रेटिंग एजेंसी फिच ने बैंक को नेगटिव वॉच पर रखा है।

यह भी पढ़ें : आपके स्मार्टफोन की स्पीड़ को स्लो करते हैं ये ऐप्स, आज ही करें अनइंस्टाल

इधर पीएनबी को नीरव मोदी की ओर से दिए गए एक पत्र में कहा गया था कि वह 50 अरब रुपए यानी 775.25 करोड़ डॉलर बैंक को चुकाना चाहता है। लेकिन यह राशि बैंक द्वारा धोखाधड़ी का आरोप लगाई गई राशि तुलना में बहुत कम है। मोदी के वकील ने कहा कि बैंक की ओर से लगाए गए आरोपों के बाद मोदी की जनता के प्रति देनदारियों को भी बैंक ने खतरे में डाल दिया है।

Also Read:

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें