मौत को छोड़कर हर मर्ज का रामबाण इलाज है कलौंजी

0
583
हर मर्ज का सिर्फ एक ही इलाज कलौंजी
Kalaunjee

कलौंजी के बीजों से 100 से अधिक चमत्कारिक फायदे होते हैं। आयुर्वेद में कहा गया है कलौंजी संजीवनी है। यह अगिनत रोगों को चुटकियों में ठीक करती है। इसकी उपयोगिता का वर्णन आयुर्वेद ग्रंथों के अलावा मुस्लिम के ग्रंथ हदीस में भी बताया गया है कि मौत को छोड़कर हर मर्ज की दवा है कलौंजी।

कलौंजी वनस्पति पौधा है जिसके बीज भी होते है। इन बीजों को औषधीय रूप से प्रयोग किया जाता है। कलौंजी के बीजों को बहुत बारीक पीसकर सिरका, शहद या पानी में मिलाकर प्रयोग किया जाता है। कलौंजी के बीजों का तेल भी बनाया जाता है। जो रोगों के निदान में बहुत प्रभावशाली होता है। इसका तेल उपलब्ध न होने पर कलौंजी के बीजों को काम में लिया जा सकता हैं। कलौंजी के बीजों में एक सैंपूनियम नामक पदार्थ होता है। इसके बीजों में लिजिनियम नामक कड़वा पदार्थ भी पाया जाता है। कलौजी का तेल कफ को नष्ट करने वाला तथा रक्त वाहनियों को साफ करने वाला होता है। इसके अलावा यह खून में मौजदू अनावश्यक दव्य को भी दूर करता है।

कलौजी का तेल सुबह खाली पेट तथा रात को सोते समय लेने से बहुत से रोग नष्ट हो जाते है।

कलौंजी आपके शरीर में जाती है तो यह कई रोगों का नाश करती है। इसलिए इसको संजीवनी भी कहा जाता है।आइए कलौंजी के क्या-क्या फायदे है जानते हैं…

यह भी पढ़ें : ज्यादा पानी पीने के ये है फायदे, आज से ही आजमाएं

डायबिटिज

यदि किसी को डायबिटिज है तो उस व्यक्ति के द्वारा 2 ग्राम कलौंजी के सेवन से डायबिटिज को कंट्रोल किया जा सकता है। इसमें तेजी से बढ़ रहा ग्लूकोस कम होता है, जिससे डायबिटिज में राहत मिलेगी।

सर्दी-जुकाम

आधा कप पानी में आधा चम्मच कलौंजी तेल व चौथाई चम्मच जैतून तेल इतना उबालें कि पानी नहीं उड़ जाए केवल तेल रह जाएं। इसे छानकर 2 बूंद नाक में डालें, जुकाम ठीक होगा।

सिरदर्द

कलौंजी के तेल को ललाट से कानों तक अच्छी तरह लगाने और आधा चम्मच कलौंजी के तेल को एक चम्मच शहद में मिलाकर सुबह-शाम सेवन करने से सिरदर्द नहीं होगा।

यह भी पढ़ें : सफेद बालों के पीछे ये है कारण, इन तरीकों से करें इसका समाधान

बहरापन

इसके तेल से कान की सूजन व बहरेपन में भी लाभ होता है।

गंजापन दूर करने में सहायक

जली हुई कलौंजी को हेयर ऑयल में मिलाकर नियमित सिर पर मालिश से गंजापन दूर होगा।

मानसिक तनाव दूर

एक कप गर्म पानी में आधा चम्मच कलौंजी का तेल डालकर रात को सोते समय पीने से मानसिक तनाव दूर होता है। रक्तचाप काबू होगा।

यह भी पढ़ें : अंगूर खाने से ये 8 फायदे मिलते हैं आपको, आज से ही शुरू करें खाना

दांत का दर्द दूर करें

कलौंजी का तेल और लौंग का तेल 1-1 बूंद मिलाकर दांत व मसूडों पर लगाने से दर्द ठीक होता है। आग में सेंधा नमक जलाकर बारीक पीस लें और इसमें 2-4 बूंद कलौंजी का तेल डालकर दांत साफ करें। दांत साफ और स्वस्थ रहते है।

मिरगी रोग

वर्ष 2007 में हुए एक शोध के अनुसार मिरगी से पीड़ित से पीड़ित व्यक्ति की नाक में कलौंजी के तेल की कुछ बूंदे नाक में डालने से फायदा होता है। यह मिरगी के दौरे को कम करता है।

हाई ब्लड प्रेशर

यदि कोई व्यक्ति हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित है तो उसे 100 से 200 मिलीग्राम कलौंजी के सत्व दिन में दो बार सेवन करना चाहिए। इससे उसका हाई ब्लड़ प्रेशर कम होगा। इसके अलावा एक कप गर्म पानी में आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर दिन में दो बार पीने से रक्तचाप सामान्य बना रहता है।

नेत्र रोग में लाभकारी कलौंजी

सभी प्रकार के नेत्र रोगों में कलौंजी रामबाण इलाज है। आँखों की लाली, मोतियाबिन्द, आँखों से पानी का आना, आँखों की रोशनी कम होना आदि। इस तरह के आँखों के रोगों में एक कप गाजर का रस, आधा चम्मच कलौंजी का तेल और दो चम्मच शहद मिलाकर दिन में 2बार सेवन करें। इससे आँखों के सभी रोग ठीक होते हैं। आँखों के चारों और तथा पलकों पर कलौंजी का तेल रात को सोते समय लगाएं। इससे आँखों के रोग समाप्त होते हैं। रोगी को अचार, बैंगन, अंडा व मछली नहीं खाना चाहिए।

Also Read:

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here