मतदान से जुड़ीं हर वो जानकारी, जिसे जानना आपके लिए जरूरी है

0
1266
Election 2019

मतदान करना हर एक व्यक्ति का अधिकार है जिसकी उम्र 18 वर्ष या इससे अधिक है। आज हम बताने जा रहे है मतदान से जुड़ीं वो तमाम जानकारी, जो अक्सर वोटर के मन में उठती रहती है। मतदान के बारे में इन सब बातों को जानना हर वोटर के लिए जरूरी है। इससे वो अपने वोट का सही तरह से उपयोग कर सकें। आइए जानते हैं कौनसे हैं वे बातें…

क्या मैं मतदाता के रूप में अपना रजिस्ट्रेशन करा सकता हूॅं?
-हां। कोई भी व्यक्ति जो भारत का नागरिक है। उसकी व्यक्ति की उम्र 18 वर्ष हो चुकी हो। इसी के साथ ही वह जिस स्थान पर रजिस्ट्रेशन करना चाहता है। उस निर्वाचन क्षेत्र का निवासी हो।

किसी व्यक्ति का नाम मतदाता सूची में कब रजिस्ट्रर नहीं किया जाता?
-जब वह भारत का नागरिक नहीं है। निर्वाचन विभाग के सक्षम अधिकारी ने उसे मानसिक रूप से रुग्ण या अक्षम घोषित कर दिया हो। इसके अलावा ऐसे व्यक्ति जिसे कानून के तहत भ्रष्ट आचरण और अन्य चुनाव अपराधों के लिए मतदान करने के लिए अस्थायी रूप से अरोग्य घोषित कर दिया हों।

यह भी पढ़ें : SBI दे रहा है आपको हर महीने घर बैठे 50 हजार कमाने का मौका, जानिए कैसे

क्या मतदान के दिन सार्वजनिक अवकाश होता है?
-चुनाव के दिन सभी सरकारी व निजी संस्थानों का सवैतनिक अवकाश होता है। इसका उल्लघंन करने पर संबंधित व्यक्ति पर कार्रवाई तथा संस्थान की मान्यता रद्द की जा सकती है।

मेरा नाम मतदाता सूची में नहीं है तो क्या मैं वोट डाल सकता हूॅं?
-नहीं। यदि आपका नाम मतदाता सूची में नहीं है तो आप वोट नहीं डाल सकते।

मतदान केंद्र के अंदर मोबाइल व कैमरा ले जा सकते हैं?
-नहीं। मतदान केंद्र के अंदर मोबाइल फोन, कैमरा या किसी अन्य उपकरण को ले जाने की अनुमति नहीं है।

यह भी पढ़ें : कम पूंजी से शुरू करें ये 10 बिज़नेस, पाएं हर महीने लाखों रूपए कमाने का मौका

मैं पहली बार वोट देने जा रहा हैं। वोट देने की क्या प्रोसेस है?
-जब आप अपने मत का उपयोग करने के लिए पोलिंग बूथ पर जाओगे तो आपको वोट देने के लिए इस प्रोसेस से गुजरना होगा।
1. प्रथम चुनाव अधिकारी आपका नाम मतदाता सूची में देखेगा और आपका पहचान पत्र देखेगा।
2. दूसरा चुनाव अधिकारी आपकी अंगुली पर स्याही लगाएगा। आपको एक पर्ची देगा और रजिस्टर में आपके हस्ताक्षर लेगा।
3.तीसरा चुनाव अधिकारी आपसे पर्ची वापस लेगा और आपकी स्याही लगी हुई अंगुली देखेगा।
4. अब वोट देने के लिए इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन पर अपनी पसंद के उम्मीदवार के चिन्ह के सामने बटन दबाएं। आपको एक बीप की आवाज सुनाई देगी। वीवीपैट में मुद्रित पर्ची पर उस व्यक्ति का नाम व चिन्ह देखें। जिसे आपने वोट दिया है।

मैं वोट देना चाहता हूॅं। लेकिन मुझे कोई उम्मीद्वार पसंद नहीं है। मैं क्या करूं?
-वोट देना आपका अधिकार है। हर व्यक्ति को अपने मतदान का उपयोग अवश्य करना चाहिए। यदि आपको चुनाव में खड़े हुए उम्मीद्वार में से किसी को भी वोट नहीं देना चाहते है तो ईवीएम में अंतिम बटन नोटा -इनमें से कोई नहीं- उपलब्ध है। इसे दबाकर आप अपनी नापसंद को जाहिर कर सकते हैं।

क्या मतदाता सूची में नाम जुड़वाने की कोई फीस है?
-नहीं। निर्वाचन विभाग की ओर से यह पूरी तरह निःशुल्क है। यदि कोई इसके लिए आपसे कोई फीस लेता है तो इसकी शिकायत संबंधित निर्वाचन अधिकारी से की जा सकती है।

यह भी पढ़ें : नौकरी की तलाश में हो, तो अपनाएं ये vastu tips, जल्द मिलेगी जॉब

मेरा नाम वोटर लिस्ट से कटा है। मैं अपना नाम कैसे जुड़वा सकता हूॅं?
-आपको www.nvsp.in पर ऑनलाइन फार्म 6 भरना होगा अथवा बीएलओ से फार्म लेकर आवश्यक दस्तावेजों के साथ जमा कराएं। फॉर्म 6 जमा होने के बाद बीएलओ आपके दस्तावेजों के सत्यापन के लिए आपके पते पर आएंगे। अगर आपका आवेदन स्वीकृत हो जाता है तो बीएलओ मतदाता फोटो पहचान पत्र आपको आपके पते पर देकर जाएंगे।

मेरे पास वोटर आई कार्ड उपलब्ध ना हो तो मैं क्या करूं?
-यदि मतदान के दिन आपके पास वोटर आई कार्ड उपलब्ध नहीं हो तो चिंता की कोई बात नहीं है। ऐसी स्थिति में आप वोट देने के लिए इनमें से कोई एक वैकल्पिक दस्तावेज भी प्रस्तुत कर सकते हैं।
1. पासपोर्ट
2. ड्राइविंग लाईसेंस
3. केंद्र/राज्य सरकार एवं सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों, सार्वजनिक लिमिटेड कंपनियों द्वारा अपने कर्मचारियों को जारी किए जाने वाले फोटो सहित सेवा पहचान पत्र
4. बैंक/डाकघर द्वारा जारी फोटो सहित पासबुक
5. पैन कार्ड
6. राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर के अधीन भारत के महापंजीयन द्वारा जारी स्मार्ट कार्ड
7. मनरेगा जॉब कार्ड
8. श्रम मंत्रालय की योजना के अधीन जारी स्वास्थ्य बीमा कार्ड
9. फोटो सहित पेंशन दस्तावेज
10. निर्वाचन तंत्र द्वारा जारी प्रमाणीकृत फोटो मतदाता पर्ची
11. एमपी/एमएलए/एमएलसी को जारी शासकीय पहचान पत्र
12. आधार कार्ड

यह भी पढ़ें : सेल्फ कॉन्फिडेंस बढ़ाने के 5 तरीके, आज ही आजमाएं

मतदान केंद्रों पर मतदाताओं के लिए क्या सुविधाएं होती है?
-मतदाता अपने वोट का प्रयोग सुगमता से कर सकें। इसके लिए निर्वाचन आयोग की ओर से प्रत्येक मतदान केंद्र पर मतदाता सहायता बूथ बनाया जाता है। इसके अलावा पेयजल, प्राथमिक चिकित्सा व शौचालय की सुविधा भी मुहैया कराई जाती है। मार्गदर्शन के लिए संकेतक बनाए गए होते हैं।

नेत्रहीन मतदाता अपना वोट कैसे दे पाएगा ?
-नेत्रहीन मतदाताओं को सहायक ले जाने की अनुमति दी जाती है। नेत्रहीन मतदाताओं के लिए ब्रेल लिपि से मतदान पहचान पत्र उपलब्ध कराया जाता हैं।

मतदान केंद्र मतदाताओं की भीड़ में महिला मतदाता कैसे अपना वोट दें?
-प्रत्येक पोलिंग बूथ पर महिला व पुरुष मतदाताओं के लिए अलग-अलग कतार की सुविधा होती है। इसके अलावा प्रत्येक पुरुष मतदाता के बाद दो महिला मतदाताओं को मतदान केंद्र पर प्रवेश पर अनुमति होती है। कुछ निर्धारित स्थानों पर महिला मतदान केंद्र अलग से बनाए जाते हैं।

दिव्यांग मतदाताओं को क्या कोई सुविधा मिलती है?
-हां। दिव्यांग मतदाताओं के लिए मतदान हेतु मतदान केंद्र के लिए निःशुल्क परिवहन सुविधा होती है। मतदान केंद्र पर रैंप, व्हील चेयर व स्वयंसेवक उपलब्ध कराए जाते हैं। इसके अलावा मतदान में दिव्यांगजनों को वरीयता दी जाती है।

मतदान से जुड़ी जानकारी के लिए क्या कोई हैल्प लाइन नंबर है?
जी हां। मतदान से जुड़ी किसी भी तरह की जानकारी या सहायता के लिए हेल्प लाइन नंबर 1800-11-1950 पर कॉल करें।

Also Read:

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

Leave a comment