Kalonji: वैज्ञानिक पैमाने पर खरी उतरी कलौंजी के 9 चमत्कारिक फायदे

    - Advertisement -

    कलौंजी (Kalonji) को काला जीरा, निगेला के नाम से भी जाना जाता है। इसका वैज्ञानिक नाम निगेला सेटिवा (Nigella sativa) है। कलौंजी एक वनस्पति पौधा हैं। जिसके फूलों के बीज (Nigella Seeds) को औषधीय रूप में प्रयोग किया जाता है।

    पुराने समय से कलौंजी का उपयोग ब्रोंकाइटिस से लेकर डायरिया तक सब कुछ के लिए एक प्राकृतिक उपचार के रूप में किया जाता रहा है।

    आयुर्वेद में कहा गया है कि कलौंजी संजीवनी है। यह अनगिनत रोगों से बचाए रखती है। यही कारण है कि भारतीय रसोई में बनने वाले व्यजनों में कलौंजी का उचित इस्तेमाल किया जाता है। पारंपरिक रूप से कलौंजी का भोजन में इस्तेमाल शारीरिक रूप से स्वस्थ रहने के हमारे दृष्टिकोण को इंगित करता है। कलौंजी जब आहार के रूप में शरीर में जाती है तो शरीर के कई रोगों का नाश करती है। इसी कारण इसे संजीवनी भी कहा जाता है।

    आज हम आपको यहां वैज्ञानिक रूप से समर्थित कलौंजी के 9 चमत्कारिक फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं।

    Kalonji बेहतर Antioxidants

    कलौंजी एक बेहतर एंटीऑक्सिडेंट (Antioxidants) है जो शरीर में हानिकारक कणों को बेअसर करता है। इसके साथ ही यह कोशिकाओं के ऑक्सिडेटिव क्षति को रोकने में भी मददगार है।

    अनुसंधान से पता चला है कि एंटीऑक्सिडेंट स्वास्थ्य और बीमारी पर एक बड़ा इफेक्ट डालते हैं। बेहतर एंटीऑक्सिडेंट कई भयानक बीमारियों, जिनमें कैंसर, डायबिटीज, हार्ट अटैक और मोटापा आदि से बचाए रखता है।

    कलौंजी की उच्च एंटीऑक्सिडेंट क्वालिटी बीमारियों से बचाने में मदद करती है। कलौंजी में पाए जाने वाले कई यौगिक जैसे थाइमोक्विनोन, कारवाक्रोल, टी-एंथोल और 4-टेरपिनोल इसे शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट बनाते है। कलौंजी के तेल को भी एंटीऑक्सिडेंट के रूप में काम में लिया जा सकता हैं।

    2. कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) करें कम

    कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) शरीर में पाए जाने वाला वाला वसा जैसा पदार्थ हैं। शरीर को कुछ मात्रा में कोलेस्ट्रॉल की आवश्यकता होती है, जबकि इसकी अधिक मात्रा से हार्ट अटैक का खतरा बढ़ सकता है। कोलेस्ट्रॉल कम करने में Kalonji को विशेष रूप से प्रभावी माना गया है।

    दिलचस्प बात यह है कि अध्ययन में पता चला कि कलौंजी के बीज के पाउडर की तुलना में कलौंजी तेल अधिक प्रभावशाली पाया गया।

    3. कैंसर की रोकथाम में प्रभावी Kalonji

    Kalonji में हाई एंटीऑक्सिडेंट का गुण होने के कारण यह कैंसर की रोकथाम में मदद करती है। मसालों के रूप में इस्तेमाल होने वाली कलौंजी उन हानिकारक कणों को बेअसर करता है जो कैंसर को बढ़ावा देते हैं।

    एक अध्ययन में पता चला है कि अग्नाश्य और फेफड़े, गर्भाशय ग्रीवा, प्रोस्टेट, त्वचा, पेट व स्तन कैंसर सहित कई अन्य प्रकार के कैंसर कोशिकाओं को निष्क्रिय करने में कलौंजी व इसके घटक दल पूरी तरह प्रभावी पाए गए हैं।

    4. बैक्टीरिया मारने में मददगार

    कलौंजी बैक्टीरिया को मारने में काफी मददगार है। रोग फैलाने वाले बैक्टीरिया खतरनाक संक्रमण के जिम्मेदार होते हैं। इनमें कान के संक्रमण से लेकर निमोनिया तक शामिल है।

    अनुसंधान में पाया गया है कि कलौंजी में जीवाणुरोधी गुण होने के कारण वे बैक्टीरियां को खत्म करने में पूरी तरह कारगर है। बैक्टीरिया के संक्रमण के इलाज के लिए कलौंजी का उपयोग एंटीबायोटिक के रूप में काफी प्रभावी पाया गया।

    5. सूजन को कम करने में सहायक

    ज्यादातर मामलों में सूजन एक सामान्य प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया हैं जो शरीर को चोट व संक्रमण से बचाने में मदद करती हैं। दूसरी ओर पुरानी सूजन को विभिन्न रोगों कैंसर, डायबिटीज व हार्ट अटैक के लिए जिम्मेदार माना जाता है। कुछ अध्ययनों में पता चला हैं कि कलौंजी में विद्यमान शक्तिशाली एंटीऑक्सिटेंड सूजन के प्रभाव को कम करते हैं। यह बात कई वैज्ञानिक अध्ययनों से सिद्व हो चुकी है।

    6. खून में शर्करा को करें नियंत्रित

    खून में उच्च मात्रा में शर्करा शरीर में कई नकारात्मक लक्षण दिखाई देने लगते हैं जैसे अधिक प्यास लगना, वजन घटना, थकान और ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई आदि। इस पर समय पर ध्यान नहीं दिया जाएं तो इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं। कुछ प्रमाण बताते हैं कि कलौंजी खून में शर्करा को नियंत्रित रखने में मदद करता है। यह इस तरह के खतरनाक दुष्प्रभावों से शरीर को बचाए रखता है।

    एक अध्ययन में 94 लोगों को तीन महीने तक रोजाना कलौंजी का सेवन कराया गया। इससे इन लोगों के खून में तेजी से रक्त शर्करा में कमी हुई तथा यह औसत लेवल पर आ गई। (Trusted Source)

    7.पेट के अल्सर की बेहतर दवा

    पेट के अल्सर दर्दनाक घाव होते हैं जो उस रूप में होते हैं। जब पेट के एसिड पेट की रेखाओं को सुरक्षित करने वाली लेअर को नुकसान पहुंचाते हैं। Kalonji पेट की अल्सर की बेहतरीन दवा है।

    एक अध्ययन में पाया गया कि पेट के अल्सर के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली एक आम दवा के रूप में कलौंजी पूरी तरह प्रभावी हैं।

    8. लिवर को सुरक्षित रखने में करें मदद

    लिवर शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है। यह विषाक्त पदार्थों को हटाता हैं। लिवर पोषक तत्वों को संसाधित करता है और प्रोटिन व रसायन पैदा करता है जो स्वास्थ्य के काफी महत्वपूर्ण है।

    कलौंजी का नियमित सेवन लिवर को क्षतिग्रस्त होने से बचाता है। यह शरीर में विषाक्त पदार्थों को नष्ट करने में लिवर की मदद करता हैं।

    9. बालों के लिए उपयोगी Kalonji oil

    कलौंजी के तेल (Kalonji oil) से बालों की जड़ों में मालिश करने से बाल मजबूत, काले व लंबे होने लगते हैं। यदि किसी के सिर पर कम बाल है तो नियमित रूप से मालिस करने नए बाल उगने लगते है तथा बाल गहरे हो जाते हैं।

    Kalonji को नारियल के तेल में उबालने के बाद ठंडा कर मालिश के लिए प्रयोग में लाया जा सकता है। यही कारण है कि कलौंजी को बालों के लिए वरदान कहा गया है।

    Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज और ट्विटर पर फॉलो करें

    इस खबर काे शेयर करें

    - Advertisement -
    News Posthttps://www.newspost.in
    हिन्दी समाचार, News in Hindi, हिन्दी न्यूज़, ताजा समाचार, राशिफल, News Trend. हिन्दी समाचार, Latest News in Hindi, न्यूज़, Samachar in Hindi, News Trend, Hindi News, Trend News, trending news, Political News, आज का राशिफल, Aaj Ka Rashifal, News Today

    Latest news

    - Advertisement -

    Related news

    - Advertisement -

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    ollhmtn05epenfp1yuply4cg5bx3sd