Benefits Of Mint: पुदीना स्वाद ही नहीं, सेहत के लिए भी है फायदेमंद

0
382
health benefits of mint

गर्मी के मौसम में पुदीना (Mint) सेहत के लिए बड़ा फायदेमंद है। प्रकृति ने इसकी हरी-हरी सुगंधित पत्तियों में विटामिन ए, बी, सी, डी तथा ई प्रचुर मात्रा में भरा है। इसके अलावा इसमें फास्फोरस, चूना, लौह खनिज भी है।

पुदीना (Mint) स्वादिष्ट सुपाच्य, पुष्टिदायक एवं त्रि-दोष नाशक होता है। आयुर्वेदानुसार यह रुचिकर, वायु, कफ नाशक, तृप्तिदायक, मल-मूत्र की रोकथाम करने वाला तथा भूख में वृद्वि करने वाला है। खांसी, अजारगश्, तृष्णा, दाह, अपच, अतिसार, संग्रहणी, हैजा, जीर्ण ज्वर में भी यह रामबाण औषधि का कार्य करता है। यह कृमिनाशक तथा अग्नि प्रदीपक होता है। आइए जानते हैं पुदीने के गुण-

यह भी पढ़ें : सेल्फ कॉन्फिडेंस बढ़ाने के 5 तरीके, आज ही आजमाएं

  • पुदीने का रस पेट की पाचन क्रियाओं को उत्तेजित करने का काम बड़ी तेजी से करता है। पुराने जुकाम, खांसी, कफ संबंधी शिकायतें, दमा, मंदाग्नि आदि रोगों में पुदीना का रस गुणकारी है।
  • गर्मियों में पुदीने की चटनी खाने से खाना शीघ्र पचता है। भूख खुलकर लगती है। पेट से गैस व कब्ज की शिकायत भी दूर होती है। यूं पुदीने का शर्बत शरीर और मस्तिष्क को ठंडक पहुंचाता है। पुदीना दाल, सब्जी, दही, रायता तथा आलू के पराठों में डाला जाता है, जिससे इनके स्वाद में बढ़ोतरी हो जाती है।

यह भी पढ़ें : जानिए सफल व्यक्तियों की सफलता के पीछे क्या है कारण

  • गर्मी के कारण दस्त लग गए हो, लू लग गई हो, तो पुदीने का ताजा रस, शर्बत, प्यास का रस या नींबू-पुदीने का रस तुरंत लेना बहुत राहतकारी है।
  • ताजा पुदीने की पत्तियों को पीसकर उनका रस निकाल लें। इसमें 2 चम्मच शहद, 3 चम्मच नींबू का रस मिलाकर थोड़ी सी बर्फ मिलाकर शीतल पेय बना लें। इसे सेवन करने से गर्मी की दाह मिट कर तबियत ठीक हो जाती है।
  • हरे पुदीने की पत्तियों को गुलाब की पंखुडियों तथा कालीमिर्च के साथ चबा-चबाकर खाने से दांतों के कई रोग दूर हो जाते है, दांतों में खून रिसना, मसूढ़ों का फूलना, मुख दुर्गंध आदि में फायदा होता है।
  • पुदीने के रस में चीनी मिलाकर पीने से हिचकियों में आराम मिलता है।
  • पुदीने के हरे-भरे पत्तों का रस पानी में मिलाकर कुल्ला करने से दांतों में लगे कीड़े निकल जाते हैं।
  • भाषणकर्ताओं, गायकों और बहसकर्ताओं को चाहिए कि वे पुदीने का काढ़ा बनाकर नमक डालकर गरारे करें, ताकि उनके गला साफ रह सकें।
  • गर्भवर्ती स्त्रियों के लिए पुदीने का रस रामबाण औषधि है। इसके सेवन से गर्भ में पल रहे शिशु का विकास सुचारू ढंग से होता है।
  • पुदीना सौंदर्यवर्द्वक भी है। मुंह पर ताजे पुदीने का रस लगाने से मुंहासे दूर हो जाते हैं।

यह भी पढ़ें : सफलता के ये दस कदम चलिए, हर काम में मिलेगी सफलता

  • सुबह एक गिलास ठंडे पानी में 20 ग्राम पुदीने का रस, 2 टी स्पून शहद मिलाकर पीने से गैस की बीमारी में लाभ होता है।
  • उल्टी, दस्त, हैजा होने पर आधा कप पोदीने का रस हर तीन घंटे में सेवन करें। काफी आराम मिलेगा।
  • पुदीने के सेवन से पेशाब खुलकर आता है तथा महिलाओं के मासिक धर्म की अनियमिता दूर करने में सहायक होता है।
  • पुदीने के प्रयोग से टॉसिल्स में भी लाभ पहुंचता है और गले की खराबी दूर करने में सहायक सिद्व होता है।
  • 10 ग्राम पोदीना, 20 ग्राम गुड़, 200 ग्राम पानी में उबाल कर छान कर पीने से बार-बार उछलने वाली पित्ती ठीक हो जाती है।
  • पुदीने की ताजा पत्तियां पीसकर चेहरे पर 15-20 मिनट तक लगी रहने दें। इससे त्वचा की गर्मी दूर हो जाएगी। बाद में ठंडे जल से चेहरा धो लें।

Benefits Of Mint: पुदीना स्वाद ही नहीं, सेहत के लिए भी है फायदेमंद

Also Read:

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

Leave a comment