Coca-Cola : प्यासे रह जाना पर Coca-Cola कभी मत पीना

296
Coca-Cola

जिस तरह Coca-Cola की बोतल हिलाकर ढक्कन खोलने पर ज़बरदस्त झाग निकलती है उसी तरह अब Coca-Cola के प्लांट से सनसनीखेज खुलासे बाहर निकल रहे हैं। Coca-Cola के ब्रिटेन में काम करने वाले एक पूर्व अधिकारी ने खुलासा किया है कि Sprite की दो लीटर की बोतल में ‘शुगर कंटेंट’ हमारी चीनी की रोजाना खुराक से 144 प्रतिशत ज्यादा होता है। यानी जो लोग खासकर Sprite का सेवन कर रहे वो रोज़ अपने भीतर चीनी की बेतहाशा मात्रा ले रहे है जो शरीर के लिए बेहद हानिकारक है। Sprite से भी ज्यादा खतरनाक Coca-Cola की एनर्जी ड्रिंक है जिसे लोग अक्सर स्वास्थ्य लाभ के लिए पीते है।

यह भी पढ़ें : How to Lose Weight Fast: सिर्फ 5 मिनट में घटाएं 5 किलो वजन

गुमराह करने के लिए डाइट एक्सपर्ट्स को दी रिश्वत

ब्रिटेन में Coca-Cola की बिक्री देख रहे इस अधिकारी ने बताया की अपनी सॉफ्ट ड्रिंक्स के कई खतरनाक दुष्प्रभाव छिपाने के लिए Coca-Cola  ने कुछ बड़े डाइट एक्सपर्ट्स को रिश्वत दी। जिसके चलते उन्होंने Sprite के शुगर कंटेंट पर कोई प्रतिकूल बात नही कही। इन एक्सपर्ट्स ने सार्वजनिक तौर पर लोगों को गुमराह किया और बताया की Sprite या कोक पीने से मोटापा नही बढ़ता है। ये Soft drink  सेहत के लिए किसी भी तरह हानिकारक नही है।

Energy Drink भी है सेहत के लिए खतरनाक

ब्रिटिश अखबार The Independent ने इस अधिकारी का हवाला देते हुए खुलासा किया है कि Coca-Cola कंपनी की Energy Drink ‘मॉन्स्टर’ भी सेहत के लिए ठीक नही है। कुछ लोग स्वास्थ्य लाभ के लिए इस ड्रिंक का सेवन करते हैं पर उन्हें मालूम नही होता कि मॉन्स्टर खतरे के लाल निशान जैसी है और उनकी सेहत के लिय बेहद नुकसानदेह है।

यह भी पढ़ें : Regrow Hair Naturally in 3 Weeks, गंजापन अब कोई समस्या नहीं

इस अधिकारी के मुताबिक मॉन्स्टर के 500 लीटर के कैन में रोजाना सेवन करने के लिए तय शुगर की 48 फीसदी मात्रा होती है जो कई बीमारियों को एक तरह से न्योता है. यही नही Energy Drink के इस कैन में 165 मिलीग्राम कैफीन होती है जो कॉफ़ी के डेढ़ कप और उसमे पड़ी 10 चम्मच चीनी के बराबर है। जिसे Energy Drink मानकर पिया जा रहा है उसमे कैफीन की अत्यधिक मात्रा है जो किसी के लिए भी हानिकारक है।

फिलहाल इस खबर पर Coca-Cola की तरफ से अभी तक कोई आधिकारिक ब्यान नही आया है. लेकिन सवाल सिर्फ कोका कोला का नही है. इस दौड़ में पेय पदार्थ बनाने वाली अन्य कम्पनिया भी वही कर रही है जो Coca-Cola करती आई है।

Also Read:

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

Leave a comment