घर में कलह का कारण बनते है ये 7 वास्तु दोष, ये उपाय अपनाइए

672
घर में कलह का कारण बनते है ये 7 वास्तु दोष

आपने अक्सर देखा होगा कि बहुत से परिवारों में हमेशा आपसी कलह का वातावरण बना रहता है। परिवार के सभी सदस्य एक-दूसरे से छोटी-छोटी बातों पर लड़ते-झगड़ते रहते है। फलस्वरूप इन सदस्यों में एक दूसरे के प्रति मान-सम्मान में तो कमी आती ही है। साथ ही आपसी दूरियां भी बढ़ती चली जाती है। ऐसा घर में वास्तु दोष के कारण भी हो सकता है।

जी हां आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि वे 7 वास्तु दोष, जिनके कारण घर-परिवार में हमेशा कलह का वातावरण बना रहता है। कुछ सावधानी और कुछ छोटे-छोटे उपाय कर इन वास्तु दोष की समस्याओं को दूर घर में सुख-समृद्वि व शांति पाई जा सकती है।

यह भी पढ़ें : कम पूंजी से शुरू करें ये 10 बिज़नेस, पाएं हर महीने लाखों रूपए कमाने का मौका

तो चलिए जानते है वे कौनसे 7 कारण है जिनकी वजह से घर-परिवार में कलह का वातावरण बना रहता है।

  • यदि आपके घर के ईशान कोण यानी उत्तर-पूर्व दिशा में शौचालय, पानी का टैंक या रसोईघर बना हुआ है तो यह
  • आपके परिवार में आपसी कलह का सबसे बड़ा कारण है। इससे घर में हमेशा अशांति का वातावरण बना रहता है।
  • घर का ईशान वाला हिस्सा उत्तर-पूर्व घर के दक्षिण-पश्चिम हिस्से से नीचे होना चाहिए। यदि ऐसा नहीं है तो यह पिता-पुत्र के संबंधों के लिए खराब माना जाता हैं। ऐसे घर में रहने वाले पिता-पुत्र कभी किसी बात पर एकमत नहीं हो सकते।
  • घर के ईशान भाग में बने रूम में भवन मालिक को नहीं सोना चाहिए। ईशान दिशा में पूजाघर या स्टेडी रूम बनाया चाहिए।
  • घर में सूर्य का प्रकाश नहीं आना भी नैगेटिव उर्जा पैदा करता है। इससे घर में रहने वाले लोगों के मन में नैगेटिव विचार पैदा होते हैं, जो अशांति का कारण बनते हैं।
  • यह भी पढ़ें : नौकरी की तलाश में हो, तो अपनाएं ये vastu tips, जल्द मिलेगी जॉब
  • यह भी पढ़ें : ये संकल्प दिलाएंगे आपको बिजनेस में सफलता
  • यह भी पढ़ें : सेल्फ कॉन्फिडेंस बढ़ाने के 5 तरीके, आज ही आजमाएं
  • यदि कोई प्लाट उत्तर व दक्षिण में सकरा तथा पूर्व व पश्चिम में लंबा है तो ऐसी जगह को सूर्यभेदी कहा जाता है। ऐसी जगह पर पिता-पुत्र के संबंधों में हमेशा अनबन बनी रहती है। ऐसे स्थान पर भूलकर भी घर नहीं बनाना चाहिए।
  • घर के उत्तर-पूर्व दिशा में कभी भी कोई भारी सामान न रखें। ऐसे स्थान पर स्टोर रूम या कबाड नहीं रखना चाहिए। इस स्थान पर कूडादान न रखें। ऐसा करने पर परिवार के सभी सदस्य बेवजह आपस में एक-दूसरे से उलझते रहते हैं।
  • घर की महिलाएं यदि देर से उठती है। बिना स्नान व साफ-सफाई किए पूजा स्थल तथा किचन में जाती है तो भी ऐसे
  • घर में नैगेटिव उर्जा का संचार होता है। घर के लोगों में उग्रता का स्वभाव बनता है। घर के सदस्य बात-बात पर गुस्से करते देखे जा सकते हैं। इससे घर में आपसी कलह के वातावरण निर्मित होता हैं।

ऐसे पाएं घर में सुख-समृद्वि vastu shastra for home

यदि आपके घर में हमेशा कलह का वातावरण बना रहता है। घर के सदस्य आपस में लड़ते है तो कुछ उपाय अपनाकर इस समस्या से निजात पाया जा सकता है। आइए जानते है क्या है वे उपाय…

यह भी पढ़ें : SBI दे रहा है आपको हर महीने घर बैठे 50 हजार कमाने का मौका, जानिए कैसे

  • घर के वास्तु दोष को दूर करने के लिए घर के मध्य भाग की पश्चिम दिशा में फिटकरी का एक छोटा टुकडा रख लें।
  • आप एक विशेष रूम की पश्चिम दिशा में भी यह उपाय कर सकते हैं। इससे घर में सुख-शांति का वातावरण बनेगा। वास्तु दोष से निजात मिलेगी।
  • घर में पौंछा लगाते समय पानी में एक चम्मच समुद्री नमक डालकर फिर पौंछा लगाएं। रोजाना ऐसा करने से घर में पॉजिटिव वातावरण का निर्माण होगा।
  • रोज सवेरे धीमी आवाज में मधुर भजन चलाएं। मधुर संगीत में चल रहे भजन सुबह उठने वाले घर के सदस्यों के चेहरों पर मुस्कान व पॉजिटिव एनर्जी से भर देंगे।
  • घर के सदस्य जिस स्थान पर ज्यादा समय व्यतीत करते हैं अथवा एक साथ बैठते हो, उस स्थान पर एक कटोरी में पूजा में प्रयोग जाने वाले कपूर की तीन-चार टीकिया खोलकर रख दे। जब तीन-चार दिन में टीकिया खत्म हो जाएं तो और तीन-चार टीकिया रख दे। इससे घर में पॉजिटिव उर्जा का निर्माण होगा। घर के लड़ाई-झगड़े बंद हो जाएंगे।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

Leave a comment